गणेश चतुर्थी का हर साल हम सबको बेसब्री से इंतजार रहता है। 11 दिनों तक चलने वाले इस त्योहार का अपना अलग महत्व है। घर-घर में गणपति की मूर्ति स्थापित की जाती है और 11 दिनों तक गणपित को अलग-अलग तरह के भोग लगाकर उन्हें प्रसन्न किया जाता है।

अब तक आप भी इसी पेशोपेश में होंगे कि इस साल गणेश जी को मोदक के अलावा 11 दिन अलग तरह का और क्या-क्या भोग लगाया जाए। इसलिए हम इस साल गणेश जी के भोग को ध्यान में रखकर आपके लिए बिल्कुल अलग और क्रिएटिव आइडिया लेकर आए हैं जिसे बनाने में आपको भी मजा आएगा। जी हां इस साल हम आपके लिए आपके ऑल टाइम फेवरिट ड्रिंक माज़ा से बनने वाले कुछ डिशेज के बारे में बताएंगे कि कैसे माज़ा की मदद से आप 11 दिनों तक अलग-अलग डिश बनाकर गणेश जी को भोग लगा सकते हैं।

कैसे इस साल गणपित पूजा में लाएं Maaza ट्विस्ट

1. माज़ा मोदक : मोदक की रेसिपी तो आप जानते हैं लेकिन आपको इसमें बस एक छोटा सा बदलाव करना है। माज़ा को फ्रिज से निकाल कर रख दें और नार्मल टेम्प्रेचर तक आने दे । अब माज़ा से मोदक के आटे को अच्छी तरह गूंथे और थोड़ी देर के लिए छोड़ दें। अब इसकी गोल छोटी-छोटी लोई बना लें। हल्का दबाएं। फूल के आकार में इसके किनारे तैयार करें। तैयार किया भरावण मिश्रण बीच में रखें। चारों किनारों को जोड़कर इसे बंद कर दें। अब इन्हें मलमल के कपड़े पर रखें। करीब 10 से 15 मिनट के लिए इन्हें भाप में पकाएं। निकाल कर गणपति को भोग लगाएं। मोदक में माज़ा का फ्लेवल इसके स्वाद को दिलचस्प बना देगा।


2. मैंगो कलाकंद: आपको बस इतना करना है कि कलाकंद बनने के बाद एक चम्मच पर कलाकंद रखें और माज़ा से भरे कटोरे (नार्मल तापमान) में डालें। कटोरे में डालकर कलाकंद को तुरंत निकाल लें। इसी तरह से सारे कलाकंद को माज़ा से निकालकर डब्बे या थाल में रखें और इसे थोड़ी फ्रीज में रख दें। कलाकंद का स्वाद दुगना हो जाएगा।

3. माज़ा पेड़ा: पेड़ा बनाना बहुत ही आसान है और इसे हर त्योहार में खासकर जरूर बनाया जाता है। आप अगर मैंगो पेड़ा बनाना चाहते हैं तो माज़ा को कटोरी या आइस ट्रे में डालकर बर्फ बना लें और इसे क्रश करें। अब मावा में बहुत ही थोड़ी मात्रा में क्रश किए माज़ा को मिलाएं और अच्छे से मावे को काफी देर तक मिलाएं ताकि माज़ा इसमें बिल्कुल अच्छे से मिले और चिपचिपा ना रहे। अब इसका पेड़ा बनाएं। इससे पेड़ा में माज़ा का हल्का फ्लेवर इसके स्वाद को दुगना कर देगा।

4. माज़ा फिरनी: आप फिरनी बनाएं और माज़ा को आइस ट्रे में जमा लें। अब माज़ा के कुछ आइस क्यूब्स को फिरनी में डालें और गणपति को भोग लगाएं और घर आए मेहमानों को सर्व करें।

5. माज़ा कुल्फी: माज़ा को कुल्फी के खांचे में लें और इसमें पिस्ता, किशमीश और काजू के छोटे-छोटे टुकड़े डालकर जमा लें। अब ड्राइफ्रूट माज़ा कुल्फी का भोग गणपति को लगाएं।

6. माज़ा बनाना स्मूदी: केले में माज़ा मिलाकर अच्छे से शेक बनाएं। इसमें आप चाहें तो माज़ा कुल्फी या माज़ा आइस क्यूब डालकर स्वाद दुगना कर सकते हैं।

7. माज़ा फालूदा: फालूदा में आप थोड़ी सी क्रिएटिविटी दिखाएं और इससे फालूदा का स्वाद भी दुगना नजर आएगा। आपको बस इतना करना है कि थोड़ा सा केला लें और इसमें दूध, सब्जा के बीज मिलाएं और आइसक्रीम की जगह माज़ा कुल्फी बनाएं और इसे फालूदा में डालें और गणपति को भोग लगाएं।
8. माज़ा शीरा: आप भोग के लिए शीरा बना लें और ठंढा हो जाने दें। अब इसमें बहुत ही कम मात्रा में माज़ा मिलाकर फ्रीज में चिल्ड होने के छोड़ दें। इससे माज़ा शीरा में अच्छे से मिल जाएगा और स्वाद भी बेहतरीन आएगा।

9. माज़ा और नारियल की बर्फी: बर्फी बन जाने के बाद इसे कलाकंद की तरह ही सामान्य तापमान के माज़ा में डिप करें और ट्रे पर या डब्बे में रखें। अब इसे फ्रीज में ठंढा होने दें। नारियल के साथ माज़ा का फ्लेवर इसके स्वाद को दुगना कर देगा।

10. माज़ा कस्टर्ड: पहले माज़ा को एक बर्तन में निकाल कर थोड़ी देर के लिए छोड़ दें। अब केला और माज़ा को मिलाकर एक बार जूसर में चलाएं। इसमें थोड़ा सा दूध और कस्टर्ड पाउडर मिलाएं। अब इसे ठंडा होने दें। आप चाहें तो इसमें भी माज़ा कुल्फी या माज़ा आइस क्यूब्स डालकर गणपति को भोग लगा सकते हैं।

हमने आज आपको माज़ा से बनने वाली बेहद आसान और दिलचस्प रेसिपी के बारे में बताया जो खाने में भी स्वादिष्ट है और आप इसे गणपति को भोग में भी चढ़ा सकते हैं । अब माज़ा मोदक को ही ले लीजिए, हम सभी जानते हैं कि मोदक गणपति का फेवरिट है तो देर किस बात की, गणेश चतुर्थी के पहले दिन माज़ा मोदक का भोग लगाएं और गणपति को खुश करें। तो बस आप भी भोग की टेंशन छोड़ें और फटाफट इसकी तैयारियों में जुट जाएं।

(This article was originally published in Daily Hunt)